कोरोना संक्रमित मरीजों में नया ट्रेंड, पेट में दर्द व ऐठन भी लक्षण

लखनऊः राजधानी में बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीज अस्पतालों में भर्ती हो रहे हैं. अब जो मरीज भर्ती हो रहे हैं, उनमें नया ट्रेंड देखने को मिल रहा है.

मरीज पेट की समस्या का भी शिकार हो रहे हैं. डॉक्टर्स के अनुसार करीब 20 फीसद मरीजों में इस तरह की समस्या देखने को मिल रही है. पीजीआई, केजीएमयू और लोहिया संस्थान में आए कई मरीजों में यह दिक्कत देखने को मिली है. डॉक्टर इसकी वजह एंटीबायोटिक दवाओं को मान रहे हैं.

हर 5 मरीज में एक को समस्या

पीजीआई के कोविड अस्पताल के आईसीयू इंचार्ज डॉ. जिया हाशिम ने बताया कि करीब 20 फीसद लोगों में डायरिया जैसी पेट संबंधी समस्या देखने को मिल रही है. क्योंकि कोरोना के इलाज में एंटीबायोटिक भी दी जाती है. इसके अलावा गर्मी भी एक वजह हो सकती है. डॉ. जिया ने बताया कि इस समय जो मरीज घर में आइसोलेट हैं, वे भी फोन करके इस तरह की समस्या के बारे में बता रहे हैं. भर्ती मरीजों और होम आइसोलेट मरीजों को उनकी समस्या अनुसार दवाएं बताई जा रही है.

 

सतर्कता बरतने की जरूरत

केजीएमयू लिंब सेंटर स्थित कोविड अस्पताल के नोडल अधिकारी डॉ. जेडी रावत ने बताया कि बहुत से गंभीर मरीजों ने पेट संबंधी परेशानी बताई है, जिसका उसी के अनुसार इलाज किया जा रहा है.

वहीं, लोहिया संस्थान के कोविड अस्पताल में भी कई मरीजों में डायरिया की समस्या देखने को मिल रही है. प्रवक्ता डॉ. श्रीकेश सिंह ने बताया कि अस्पताल में करीब 60 से अधिक मरीज भर्ती हैं. जिसमें करीब 10 फीसद मरीजों को डायरिया या पेट संबंधी कोई समस्या की शिकायत है. ऐसे में मरीजों को यही सलाह दी जा रही है कि वे अपने स्वास्थ्य को लेकर जितना सतर्क रह सकते हैं, सतर्क रहें.