दिल्ली से गोरखपुर पहुंची लड़की को परिवार ने कहा घर मत आना, पूरी फैमली है पॉजीटिव, रिश्तेदारों ने भी खड़े कर दिए हाथ…फिर दूत बनकर पहुंचे ‘आजाद’

गोरखपुर: कोरोना महामारी ने हर किसी के सामने समस्या खड़ी कर दी है। किसी को ऑक्सीजन, बेड व वेंटिलेटर चाहिए, तो किसी को खाने के लिए भोजन। किसी को दवा नहीं मिल रही तो किसी को आईसोलेट होने के लिए जगह।

लेकिन, गोरखपुर शहर में कुछ ऐसे भी विरले लोग हैं, जो इस महामारी में भी अपनी खुद की जान जोखिम में डाल लगातार दूसरों को मदद पहुंचा रहे हैं। लगातार गोरखपुर शहर में मजबूर और जरूरतमंदों की मदद करने के लिए चर्चा में रहने वाले स्माइल रोटी बैंक के आजाद पांडेय एक बार फिर एक लड़की के लिए उस वक्त दूत बनकर खड़े हो गए, जब उसके परिवार वालों ने उसे दिल्ली से गोरखपुर आने के बाद घर आने से मना कर दिया। क्योंकि, उनकी पूरी फैमली कोविड पॉजीटिव थी।

एयरपोर्ट पर अचानक मिली इस जानकारी के बाद लड़की की मदद करने से उसके रिश्तेदारों और दोस्तों ने भी डर से मना कर दिया। फिर क्या था, सोशल मीडिया पर उसे मिल गया आजाद पांडेय का नंबर और फिर आजाद की घंटी बजाई गई और कुछ ही देर में लड़की को रहना, खाना सहित अन्य सभी तरह की मदद मिल गई।

 

एयरपोर्ट पहुंचते ही खड़ी हो गई समस्या

शहर के सूरजकुण्ड के रहने वाले लाल बहादुर वर्मा के परिवार में कुल 6 सदस्य हैं। लेकिन इन दिनों घर के सभी सदस्य कोरोना पॉजिटिव हैं। घर की छोटी बेटी अर्चना वर्मा जो कि दिल्ली में जॉब करती है। शुक्रवार को अर्चना को पूरे परिवार के पॉजीटिव होने की जानकारी मिली। यह पता चलते ही वह घबरा गई उसने तुरंत हवाई जहाज पकड़ा और गोरखपुर चली आई। गोरखपुर एयरपोर्ट पहुंचने के बाद जब अर्चना ने अपने घर फोन किया तो घर वालो ने घर आने से साफ मना कर दिया। क्योंकि, अगर वह घर आती तो शायद वह भी पॉजीटिव हो जाती।

ऐसे में परेशान अर्चना ने अपने रिश्तेदार, शुभचिंतक, मित्र आदि सभी को फोन लगाया और अपनी अपनी समस्या साझा की, लेकिन हर किसी ने इस संकट के दौर में मदद करने के हाथ खड़ा कर दिया।

फिर बजी आजाद की घंटी

फिर घंटी बजाई गई स्माइल रोटी बैंक के आज़ाद पाण्डेय को। जानकारी मिलते ही आज़ाद ने एयरपोर्ट से अर्चना को रिसीव किया। परेशान—बदहवास लड़की की पहले तो आजाद ने काफी देत तक काउंसलिंग की। काफी देर समझाने के बाद अर्चना नार्मल हुई। अब समस्या यह थी कि अकेली लड़की रहेगी कहां? फिर आजाद ने रेलवे स्टेशन के होटल व्यवसायी राघवेंद्र शाही जो कि स्माइल टीम के डोनर भी हैं उनको इसकी जानकारी दी। राघवेंद्र शाही लड़की की मदद के लिए अपने होटल का एक कमरा तुंरत उपलब्ध कराया।

स्माइल टीम ने देखरेख में अर्चना को भोजन, पानी और सुरक्षा की जिम्मेदारी ली। इस पूरे मामले के आद अर्चना का पूरा परिवार जो कोरोना संक्रमित परिवार बहुत खुश हुआ और ढेरों आजाद की टीम को ढेरों दुआएं दीं।

 

 

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही आजाद की अपील

आजाद पांडेय के नेतृत्व में स्माइल रोटी बैंक टीम लगातार इस महामारी के दौर में जरूरतमंदों को रहने, भोजन दवा आदि उपलब्ध करा रही है। टीम में विश्वजीत त्रिपाठी, नरेन्द्र राय व दीपक मिलकर अब तक सैकड़ों जरूरतमंदों की मदद कर चुके हैं। आजाद पांडेय की यह अपील इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब वायरल भी हो रही है।

अपील यह है कि घर, अस्पताल, इत्यादि कहीं भी कोई कोरोना कहर से पीड़ित हो तो वह 9454641501 पे कुंडी खटखाएँ, मदद पाएं।