गोरखपुर में पांव पसार रहा डेंगू : जिला अस्पताल के पांच मरीजों में हुई डेंगू की पुष्टि, एक की मिली ट्रैवेल हिस्ट्री, मरीजों में 4 पुरुष और एक महिला

    गोरखपुर: ​जिले में डेंगू का का खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। शायद यही वजह है कि जिले में लगातार डेंगू मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। बीते तीन दिनों में जिला अस्पताल में डेंगू के 5 नए मरीज भर्ती होने से हड़कंप मच गया। इनमें चार पुरुष और एक महिला है। एक मरीज की ट्रैवेल हिस्ट्री है। अन्य चार मरीजों की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है।

    तेज बुखार के साथ कम हो रहा प्लेटलेट्स
    जिला अस्पताल के डेंगू वार्ड में भर्ती मरीजों में एक शाहपुर का युवक है। जिसकी किराने की दुकान है। युवक की उम्र 19 वर्ष है। तेज बुखार के कारण प्लेटलेट्स काफी गिर गया। इसके कारण युवक दो दिन पहले डेंगू वार्ड में अचेत हो गया। डॉक्टरों ने उसे गहन निगरानी में 24 घंटे रखा। जिसके बाद उसकी हालत में सुधार हुआ। चौरीचौरा निवासी महिला भी डेंगू से पीड़ित मिली है। पहले उसका इलाज निजी अस्पताल में हुआ। वहां से हालत बिगड़ने पर जिला अस्पताल में शिफ्ट किया गया। उनके शरीर में प्लेटलेट्स की मात्रा तेजी से कम हो रही थी। अब उनकी हालत स्थिर है। राजस्थान के बीकानेर के निजी कंपनी में काम करने वाले चिलुआताल निवासी युवक में भी डेंगू की पुष्टि हुई है। परिजनों ने उसे बीकानेर से बुलाकर जिला अस्पताल में भर्ती कराया है।

    युवाओं को शिकार बना रहा डेंगू


    डेंगू से पीड़ित होने वालों में ज्यादातर की उम्र 20 से 35 वर्ष के बीच है। सिर्फ एक महिला भर्ती है जिसकी उम्र 45 वर्ष है। डेंगू से जूझ रहे लोगों की हालत में तेजी से सुधार हो रहा है। अस्पताल में डेंगू मरीजों की वजह से दूसरों को परेशानी ना हो। इसके कारण अस्पताल में अलग वार्ड बनाया गया है। इस वार्ड के आने-जाने के रास्ते भी सामान्य मरीजों से अलग है। वार्ड पूरी तरह से कवर है। इसके बावजूद एहतियातन मरीजों को मच्छरदानी में रखा जा रहा है। जिला अस्पताल के एसआईसी डॉ. एसी श्रीवास्तव ने बताया कि अस्पताल में पांच मरीज भर्ती है। सभी की हालत खतरे से बाहर है। अस्पताल में पर्याप्त दवाएं हैं। गंभीर मरीजों को बेहतर इलाज मिल रहा है।