ब्राह्मण सियासत पर विधानसभा में गरजे सीएम योगी: कहा, राम और परशुराम में कोई अंतर नहीं

लखनऊ: यूपी विधानसभा के मानसून सत्र के तीसरे दिन सपा और कांग्रेस के सदस्‍यों ने जमकर हंगामा किया। इस बीच मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ भी अक्रामक नज़र आए। उन्‍होंने ब्राह्मण सियासत, परशुराम पॉलिटिक्‍स और कानून व्‍यवस्‍था पर उठाए जा रहे सवालों को लेकर विरोधियों को जवाब दिया। कहा कि राम और परशुराम में कोई अंतर नहीं है। दोनों विष्‍णु के ही अवतार हैं। बस कुछ लोगों की बुद्धि में भेद है।

मुख्‍यमंत्री ने रामचरित मानस के सीता स्‍वयंवर में धनुष भंग प्रसंग का उल्‍लेख करते हुए कहा कि गोस्‍वामी तुलसीदास ने राम और परशुराम के सम्‍बन्‍धों को रामचरित मानस में स्‍पष्‍ट किया है। इस प्रसंग में राम कहते हैं-‘राममात्र है लघु नाम हमारा, परशुसहित बड़ नाम तुम्हारा, सब प्रकार हम तुमसन हारे, क्षमहु विप्र अपराध हमारे।’

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि भगवान राम ने कहा कि उनमें तो एक गुण है, आपमे नौ गुण हैं। हम तो सब प्रकार से आपसे हारे हैं। आप विप्र हैं। हमारे अपराधों को आप क्षमा करें। इसके बाद साक्षात विष्णु के पूर्णावतार श्रीराम को पहचान कर परशुराम ने कहा-‘जै रघुवंश बनज बन भानू, गहन दनुज कुल दहन कृषानू, जय सुर धेनु विप्र हितकारी, जय मद मोह क्रोध भयहारी, विनयशील करूणा गुण सागर, जयति वचन रचना अति सागर।’

यूपी विधानसभा मानसून सत्र के तीसरे दिन शनिवार को सीएम योगी विपक्ष पर पूरी तरह अक्रामक रहे। उन्‍होंने कहा कि कुछ लोग तिलक-तराजू के नाम पर समाज में जहर घोलते हैं। राम और परशुराम में भेद बताकर गंदी सियासत करते हैं। जातिवादी, विभाजनकारी, कुत्सित मानसिकता रखते हैं। इसी वजह से देश की खुशी के साथ खुश नहीं हो सकते हैं। देश की खुशी के साथ वही लोग खुश हो सकते हैं जिनमें मर्यादा और धैर्य हो। लोकतंत्र बगैर लोकलाज के नहीं चलता। झूठ का सहारा लेकर कुछ समय के लिए लोगों की आंखों में धूल झोंकी जा सकती है। लेकिन विधाता सब देख रहा है। समय आने पर देश जवाब देगा। जनता जवाब देगी।

मुख्‍यमंत्री ने कोरोना संकट से निपटने में देश और उत्‍तर प्रदेश की उपलब्धियों का विस्‍तार से उल्‍लेख करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की दूरदर्शिता के चलते देश ने कोरोना का मजबूती से सफलतापूर्वक मुकाबला किया है। मुख्‍यमंत्री ने खासतौर पर कोरोना काल में राममंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन कार्यक्रम का उल्‍लेख करते हुए कहा कि 492 साल पुराना विवाद खत्‍म हुआ है। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘रोम के लोग भी अब राम का नाम ले रहे हैं।’ उन्‍होंने कहा कि जो राम का हुआ उसके सारे काम सिद़ध होते जाते हैं। वह सबके लिए पूज्‍य हो जाता है जैसे बजरंग बली हनुमान और महर्षि वाल्मिकि। लेकिन जिसने राम के साथ द्रोह किया उसकी दु‍गर्ति मारीच जैसी होती है।

कोरोना, बाढ़ और अपराध से दिलाएंगे मुक्ति
मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा कि इस वक्‍त प्रदेश कोविड-19 के साथ बाढ़ से भी जूझ रहा है। प्रदेश के 40 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। उन्‍होंने कोविड-19 और बाढ़ संकट में लोगों तक राहत पहुंचाने के काम में जनप्रतिनिधियों के योगदान की खुलकर तारीफ की। कानून व्‍यवस्‍था के मुददे पर विपक्ष को घेरते हुए मुख्‍यमंत्री ने डकैती, लूट, बलात्‍कार, बलवा और अन्‍य प्रकार के अपराधों में 2016 के मुकाबले आई कमी के उत्‍तर प्रदेश और राष्‍ट्रीय आंकड़े पेश किए। उन्‍होंने कहा कि जो लोग आज कानून-व्‍यवस्‍था की बात कर रहे हैं वे खुद कानून-व्‍यवस्‍था के लिए सबसे बड़े खतरा थे। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार कोरोना और बाढ़ से एक साथ मुकाबला करके दोनों से जनता को मुक्ति दिलाएगी और अपराध से पहले ही मुक्ति दिलाई जा चुकी है। उन्‍होंने कहा कि अपराध के खिलाफ कार्रवाई में और तेजी लाई जाएगी।