6 दिन में 7 ताबड़तोड़ हत्याओं से दहला गोरखपुर: अब गुलहरिया में पूर्व ग्राम प्रधान की गोली मारकर हत्या

गोरखपुर: यूपी पंचायत चुनाव को लेकर एक तरफ जिला प्रशासन बदमाशों पर शिकंजा कस रहा है, वहीं जिले में नए पुलिस कप्तान के आते ही सीएम सिटी की कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो गई। जिले में लगातार हो रही ताबड़तोड़ हत्याओं से जहां शहर से लेकर देहात तक का इलाका दहल उठा है, वहीं अब लोग गोरखपुर बना हत्यापुर कहने से भी नहीं चूक रहे हैं। हालात यह है कि बीते 5 दिनों में लगातार हुई 6 ताबड़तोड़ हत्याओं के बाद एक बार फिर गुलहरिया इलाके के नारायणपुर बनगाई गांव के पास बदमाशों ने शुक्रवार की देर रात पूर्व प्रधान बृजेश सिंह (48) की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। सूचना पाकर देर रात पुलिस के आलाधिकारी और भारी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वहीं पुलिस बदमाशों की तलाश में जुट गई है। देर रात तक बदमाशों का कोई सुराग नहीं लग सका।

भाजपा के सेक्टर प्रभारी थे बृजेश सिंह
वहीं हत्या का कारण चुनावी रंजिश बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि, नारायणपुर बनगाई गांव निवासी बृजेश सिंह पूर्व प्रधान थे और इस बार भी पंचायत चुनाव में ग्राम प्रधान पद के प्रत्याशी थे। इसके अलावा मृतक भाजपा के सेक्टर प्रभारी भी बताए जा रहे हैं।

वहीं, पंचायत चुनाव को लेकर गांव के ही कुछ लोगों से उनकी चुनावी रंजिश चल रही थी। शुक्रवार की रात करीब 10.30 बजे वे अकेले बाइक से अपने शहर स्थित घर लौट रहे थे कि इस बीच उनके गांव के बाहर ही बाइक सवार बदमाशों ने उन्हें घेर लिया और गोलियों से भून डाला। गोलियां की आवाज सुनकर गांव के कुछ लोग जब उस तरफ दौड़े तो उन्हें देख बदमाश फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस उन्हें मेडिकल कॉलेज ले गई, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। खबर लिखे जाने तक पुलिस बदमाशों की सरगर्मी से तलाश में जुटी रही।

6 दिन में 7 हत्याएं, गोरखपुर को हत्यापुर कहने लगे लोग
जिले में लगातार बढ़ रहे आपराधिक घटनाओं का आलम यह है कि एक ओर जहां बदमाशों ने बीते 6 दिनों में अब तक 7 लोगों की ताबड़तोड़ हत्या की घटनाओं को अंजाम दे डाला, तो वहीं दूसरी तरफ बेखौफ बदमाश आए दिन लूट, छिनैती जैसी वारदात को भी अंजाम दे रहे हैं। ताजे मामले की बात करें तो पिछले 6 दिनों में लगातार 7 हत्याओं से गोरखपुर में दहशत का माहौल है। इन सब के बीच हैरत करने वाली बात है कि बदमाश पुलिस की गिरफ्त से भी बाहर है।

गगहा इलाके में 21 दिन के अंदर तीन बड़ी हत्याएं
गोरखपुर के गगहा थाना क्षेत्र की बात करें तो सिर्फ 21 दिन के अंदर 3 हत्याएं हुई हैं। बीते 10 मार्च को गगहा में जिला पंचायत सदस्य उम्मीदवार रितेश मौर्या की गोली मारकर बदमाशों ने हत्या कर दी थी। अभी पुलिस इस मामले की तफ्तीश में जुटी हुई थी कि उसी क्षेत्र में एक डबल मर्डर ने सनसनी फैला दिया है।

बुधवार की देर रात इलेक्ट्रॉनिक की दुकान चलाने वाले व्यापारी शंभु मौर्य और उनके सहयोगी संजय पांडेय पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर मौत में मुंह में सुला दिया। इस मामले में एसएसपी दिनेश कुमार ने गगहा उप निरीक्षक पर ऐक्शन लेते हुए जांच का आदेश दिया है। 21 दिन के अंदर तीन बड़ी हत्याओं के बाद एसएसपी ने गगहा उप निरीक्षक राज प्रकाश सिंह को लाइन हाजिर करते हुए विभागीय जांच का आदेश दिया है। वहीं गगहा थाने की कमान गीडा थाना प्रभारी सुधीर कुमार सिंह को सौंप दिया गया है और गीडा थाना की कमान इंस्पेक्टर दिनेश दत्त मिश्रा को दी गई है।

इन सात हत्याओं से दहला गोरखपुर
25 मार्च से 31 मार्च तक जिले में एक के बाद एक हत्याओं से दहशत का माहौल है। इन पांच दिनों में जिले के अलग अलग क्षेत्रों में 7 मर्डर वारदात सामने आई हैं, जिसमें बेलीपार में एक डेढ़ साल के बच्चे की हत्या, कैम्पियरगंज में सरवन यादव नाम के युवक की गला कसकर हत्या, 28 मार्च को गुलरिहा इलाके के बनगाई जंगल में अजय यादव की हत्या कर फेंकी गई लाश, 30 मार्च को खजनी के भीटी रावत में उमेश की हत्या, 31 मार्च को गगहा इलाके में व्यापारी शंभु मौर्य और उनके सहयोगी संजय पांडेय की हत्या को बदमाशों ने अंजाम दिया है। वहीं अब शुक्रवार की देर रात गुलहरिया इलाके केबनगाई में बदमाशों ने पूर्व ग्राम प्रधान बृजेश सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी।