गोरखपुर में 24 घंटे में 17 कोरोना संक्रमितों की मौत, 3 की ऑक्सीजन की कमी से गई जान!

गोरखपुर: कोरोना संक्रमण से मौतों की संख्या कम होने का नाम नहीं ले रही है। गुरुवार शाम से शुक्रवार शाम तक बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में 17 संक्रमितों की मौत हो गई। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल पर मौत की संख्या चार बताई गई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पिछले साल से अब तक कोरोना संक्रमण से 409 की मौत हो चुकी है। हकीकत में मौत की संख्या ज्यादा है।

मिले थे 1078 संक्रमित

सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय ने बताया कि शहरी क्षेत्र में 622 और ग्रामीण क्षेत्र में 404 संक्रमित मिले हैं। 52 संक्रमित अलग-अलग थाना क्षेत्रों के हैं। पिछले साल से अब तक संक्रमितों की संख्या 33 हजार 785 हो गई है। इसमें 25 हजार 41 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। जिले में कोरोना से संक्रमित सक्रिय मरीजों की संख्या 8335 हो गई है। बीआरडी मेडिकल कालेज के प्रमुख अधीक्ष्रक डा. राजेश कुमार राय भी संक्रमित हो गए हैं।

 

17 मृतकों में नौ गोरखपुर के हैं। इनमें रुस्तमपुर के 65 वर्षीय बुजुर्ग, 56 वर्षीय महिला, प्रीत बिहार कालोनी की 50 वर्षीय महिला, शाहपुर की 61 वर्षीय महिला, बेतियाहाता के 71 वर्षीय बुजुर्ग, शिवमंदिर के निकट रहने वाली 58 वर्षीय महिला शामिल हैं। इसके अलावा तीन अन्य की मौत हुई है। देवरिया के 70 और 60 वर्षीय पुरुष, संतकबीरनगर की 58 वर्षीय महिला, महराजगंज के 63 वर्षीय बुजुर्ग, बिहार की महिला और दिल्ली के 60 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है।

 

667 ने कोरोना से मुक्ति पायी

शुक्रवार को 667 ने कोरोना से जंग जीत ली है। सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय ने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले लोग कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए कोरोना से जंग जीत रहे हैं। कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है।

अव्यवस्था से टीकाकरण हो रहा प्रभावित

नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर अव्यवस्था के कारण कोरोना की जांच और टीकाकरण पर असर पड़ रहा है। बसंतपुर नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की प्रभारी डा. पल्लवी श्रीवास्तव ने बताया कि टीकाकरण के साथ ही कोरोना की जांच भी हो रही है। सुरक्षाकर्मियों की व्यवस्था न होने के कारण लोग बिल्कुल पास होकर जांच व टीकाकरण करा रहे हैं। स्वास्थ्यकर्मी लगातार कोविड प्रोटोकाल का पालन करने की सलाह दे रहे हैं लेकिन कोई सुन नहीं रहा है।